नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » लघुकथा ----- दिलबाग विर्क

लघुकथा ----- दिलबाग विर्क

Written By Dilbag Virk on शनिवार, 2 अप्रैल 2011 | 3:31 pm


              जानवर                      
अनजान गली में से गुजरते समय एक कुत्ते को बैठे देखकर हमारे कदम ठिठके .थोडा संभलकर पास से निकलने की सोची .जानवर है , क्या भरोसा कब टांग पकड़ ले . हम दोनों ने यही सोचा .
" आदमी भी तो एक जानवर है , सभ्य जानवर ."-मैंने अपने दोस्त से कहा .
" हाँ , जानवर तो है ,लेकिन सभ्य नहीं , बल्कि सभ्य होने के बाबजूद भी .'- मेरे मित्र ने दार्शनिक अंदाज़ से कहा .
" वो कैसे ?"-मैंने हैरानी से पूछा .
" आदमी सभ्य है ,इसमें कोई शक नहीं , लेकिन वह जानवर भी है . जानवर की तरह वह कभी भी हमला कर सकता है आपके सामान पर , आपकी जान पर व आपकी इज्जत पर ... तभी तो घर से बाहर आकर हम अनजान आदमियों से ऐसे ही सचेत रहते हैं जैसे हम अभी इस कुत्ते के पास से गुजरते समय थे ."-उसने बात स्पष्ट की .
               उसकी बात पर जब मैंने गौर किया तो समाचार पत्रों ,टी.वी.चैनलों पर दिखाए जाने वाले दुष्कर्म ,लूट-मार भरे समाचार मेरी आँखों के सामने घूम गए . मुझे भी यकीन आ गया उसकी बात पर .वास्तव में आदमी जानवर ही तो है ,सभ्य होने के बाबजूद भी .

                       * * * * * 
Share this article :

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.