नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » सलीम खान से डरते हो आप, आपके दिल में भी कोई जगह तक नहीं उसके लिये... इतने छोटे दिल के साथ कैसे ' हमारी वाणी ' कहला सकते हो आप ? - Praveen Shah

सलीम खान से डरते हो आप, आपके दिल में भी कोई जगह तक नहीं उसके लिये... इतने छोटे दिल के साथ कैसे ' हमारी वाणी ' कहला सकते हो आप ? - Praveen Shah

Written By DR. ANWER JAMAL on बुधवार, 6 अप्रैल 2011 | 8:19 pm

खुशदीप सहगल 
१- घूमते हुए हम जा पहुंचे खुशदीप सहगल  जी के ब्लॉग देशनामा पर तो पता चला कि जैसे कुछ लोग सलीम खान का विरोध कर रहे थे , उसी तर्ज़ पर  अब कुछ गलत लोग गीताश्री जी का विरोध कर रहे हैं लेकिन एक फर्क है कि इस बार 'व्यक्ति विरोध' को घटिया वे लोग भी कह रहे हैं जो यह काम खुद करते रहते हैं. लेख अच्छा है और उससे भी अच्छी हैं उसकी टिप्पणियाँ . आप ज़रूर पढ़ें. हमने कहा है कि :
न तो गीता एक दिन में लिखी जा सकती है और न ही कोई एक दिन में गीताश्री बन सकता है . मैं नहीं जानता कि गीताश्री कौन हैं और न ही कभी उन्हें पढने का अवसर ही मिला लेकिन आप बता रहे हैं कि वह एक औरत हैं तो वह ज़रूर अच्छी ही होंगी. इस देश में एक औरत के लिए   घर बाहर काम करना कितना कठिन है  , यह आज किसी से छिपा नहीं है . ऐसे में जिसने अपने लिए जो मक़ाम बनाया है , कैसे बनाया है वही जानता है. 'व्यक्ति विरोध की मानसिकता' नकारात्मक कहलाती है और बुरे नतीजे दिखाती है .

हम गीता जी के घटिया विरोध पर आपत्ति करते हैं. 
 http://www.deshnama.com/2011/04/blog-post_06.html

२- हमारे प्रिय  प्रवीण शाह जी की पोस्ट का विषय भी यही है. वह पूछ रहे हैं कि

सलीम खान से डरते हो आप, आपके दिल में भी कोई जगह तक नहीं उसके लिये... इतने छोटे दिल के साथ कैसे ' हमारी वाणी ' कहला सकते हो आप ?

३-  इन सभी बातों  का हल है कि नरमी का बर्ताव किया जाये और सकारात्मक काम किया जाये . यह समाधान देती हुई पोस्ट भी देखि जा सकती है:

अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया-‘अल्लाह नर्म आदत का है, वह नर्मी को पसंद करता है और नर्मी पर वह कुछ देता है जो सख्ती पर या किसी और चीज़ पर नहीं देता।‘

Share this article :

3 टिप्पणियाँ:

Dr. shyam gupta ने कहा…

ये व्यक्तिगत बातें ब्लोग का समय, माहौल व स्थान खराब करती हैं---बचें.. सिर्फ़ साहित्यिक बातें....

सारा सच ने कहा…

nice कृपया comments देकर और follow करके सभी का होसला बदाए..

हरीश सिंह ने कहा…

साहित्यिक बातें....

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.