नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , , , » मा निषाद प्रतिष्ठां... ड़ा श्याम गुप्त.....

मा निषाद प्रतिष्ठां... ड़ा श्याम गुप्त.....

Written By shyam gupta on शनिवार, 9 जुलाई 2011 | 10:21 pm


आज की एक घटना........
--एक घटना फ्रांस में हुई ...क्या जज़्बात हैं...एक चिड़िया के घायल होने पर दूसरे साथी का शोक -संवेदना के स्वर ----जिस पत्रकार ने यह फोटो लिया उस अखबार की प्रतियां कम पड़ गयीं |


----                     यही घटना भारत में १०००० वर्ष पहले हुई थी , जिसने एक व्याध को आदि कवि बना दिया और विश्व की प्रथम कविता उद्भूत हुई  --

 " मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगम शाश्वती समा |
 यत  क्रोंच मिथुनादेकं  वधी  काम मोहितं  || "


                                        
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

Thanks for your valuable comment.