नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » ऐसे तो रोज़ निकल जाती थी

ऐसे तो रोज़ निकल जाती थी

Written By Pappu Parihar on बुधवार, 27 जुलाई 2011 | 10:07 pm



ऐसे तो रोज़ निकल जाती थी,
यूँ न देर लगाती थी,
पर आज पता नहीं,
अभी तक क्यूँ आयी नहीं,

देखता हूँ, जाता हूँ,
पता लगाता हूँ,
क्या बात है,

पहुंचा वहाँ,
क्या देखता हूँ,
अपनी सहेलियों के साथ,
हो रही उसकी बात है |

चिड़ा रहीं हैं उसे,
चुहुल बाज़ी हो रही है,
शायद किसी दावत की बात हो रही है,
उसकी तरफ से भी हाँ हो रही है,

मुझे जो देखा, आँख फेर ली,
सहेली के काम में कुछ कहा,
सहेली ने इशारा में कहा,
कुछ दूर चलने को कहा,

न आना अब इसके पीछे.
ये जा रही किसी और के पीछे,
खैर अगर चाहो,
दूर अब भागो,

अब क्या बचा था,
मुँह मेरा लटका था,
उन्ही बैठ गया,
न उठा गया,

.
Share this article :

5 टिप्पणियाँ:

prerna argal ने कहा…

बहुत सुंदर भाव लिए सुंदर गहनाभिब्यक्ति /बधाई आपको /

शिखा कौशिक ने कहा…

बहुत khoob .बधाई

Anil Avtaar ने कहा…

Waah Pappu Ji, dil ke gubar nikalna koi aapse sikhe.. Badi khoobsoorat rachna.. Badhai..

SAJAN.AAWARA ने कहा…

Bahuut khub sir ji...behtreen rachna....
Jai hind jai bharat

Dr. shyam gupta ने कहा…

बहुत अच्छे भाव हैं-----हाँ कविता में कुछ सुर, लय , गति भी लाइए.....

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.