नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » वजह: फरमाया आपने, ये तो न सोचा था ख्वाब में

वजह: फरमाया आपने, ये तो न सोचा था ख्वाब में

Written By Pappu Parihar on बुधवार, 13 जुलाई 2011 | 5:45 pm

वजह: फरमाया आपने, ये तो न सोचा था ख्वाब में |
गर यूँ ही सेहरे सजते रहे, बकरे यूँ ही कटते रहे |
कोई न फिर साजदार होगा, उसका न कोई राजदार होगा |
पर जिन्दगी का एक उसूल है, करो तो कुबूल है || १ ||

सेहरा ही जिन्दगी को सवाँर देता है |
गवाँर को एक प्यार देता है |
किसी को एक दुलार देता है |
उनको एक मुनार देता है || २ ||

अभी तो लग रहा है की, जिन्दगी छूट रही है |
पर जिन्दगी का तजुर्बा देता है |
जिन्दगी को जीने का सलीका देता है |
जिन्दगी को जानने वजीफा देता है || ३ ||

गर कोई छलांग मारकर, निकल जाता है सेहरे के फूलों से |
तो वह रह जाता है महरूम, जिन्दगी के कुछ नजारों से |
तो जिन्दगी में काटकर जाना ही, बेहतर है |
कम-से-कम फिर तो वापस लौटना पड़ेगा, सबकुछ सहकर || ४ ||
Share this article :

1 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.