नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » » औरत

औरत

Written By Brahmachari Prahladanand on सोमवार, 11 जुलाई 2011 | 8:20 am

ओ ऋत
ओमकार में जो रत रहे वह औरत |
औरत हमेशा ओमकार में रत रहती है |
औरत कभी भी कोई कार्य करती है तो बड़े ही ध्यान से करती है |
जिसमे एक तरफ वह ओमकार को साध के चलती है |
और एक तरफ संसार के कार्य को साध के चलती है |
जैसे अभी कुछ दिन पहले तक औरत सात-सात घड़े भी सिर पर उठती थी |
एक गोद में भी घड़ा लेती थे, एक गोद में बच्चा भी लेती थी |
और साथ वाली के साथ बात भी करती चलती थी |
वह पूर्णत: ध्यान में स्थित होकर चलती थी और घड़े भी नहीं गिरते थे |
और उसको पता भी नहीं चलता था की उसने इतना वज़न उठा रखा है |
क्यूंकि वह ओमकार में ही स्थित थी |
इसलिए वह औरत है |
Share this article :

4 टिप्पणियाँ:

रविकर ने कहा…

इस प्रस्तुति के लिए बहुत-बहुत बधाई ||

Neeraj Dwivedi ने कहा…

Bahut Achhi Prastuti..

Rajesh Kumari ने कहा…

aurat ka sir garva se uncha karti post aabhar.

vidhya ने कहा…

sundar

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.