नियम व निति निर्देशिका::: AIBA के सदस्यगण से यह आशा की जाती है कि वह निम्नलिखित नियमों का अक्षरशः पालन करेंगे और यह अनुपालित न करने पर उन्हें तत्काल प्रभाव से AIBA की सदस्यता से निलम्बित किया जा सकता है: *कोई भी सदस्य अपनी पोस्ट/लेख को केवल ड्राफ्ट में ही सेव करेगा/करेगी. *पोस्ट/लेख को किसी भी दशा में पब्लिश नहीं करेगा/करेगी. इन दो नियमों का पालन करना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य है. द्वारा:- ADMIN, AIBA

Home » , » कर्म और इच्छा ....कृतित्व और आशाएं .... ड़ा श्याम गुप्त......

कर्म और इच्छा ....कृतित्व और आशाएं .... ड़ा श्याम गुप्त......

Written By shyam gupta on शुक्रवार, 8 जुलाई 2011 | 9:57 am


पहले  तो आप-- दिखाइए..... प्रोमोट कीजिये ..... गुणगान कीजिये....करने दीजिए .............

 यह...                                                                                                             
यह  ....
                                                                        
......यह

...यह ............और ....................यह....









-----फिर  इच्छा कीजिये, आशा कीजिये     कि   ...... भ्रष्टाचार....अनाचार......वलात्कार......
न हों .???????????????????????????????
Share this article :

6 टिप्पणियाँ:

रविकर ने कहा…

आपका हार्दिक अभिनन्दन ||

आभार ||

vidhya ने कहा…

आपका हार्दिक अभिनन्दन ||

सलीम खान ने कहा…

sahi kaha brother...

शालिनी कौशिक ने कहा…

sankshep me vistar se satya kahti post aabhar.

Bhushan ने कहा…

यह सब इतने बड़े स्तर पर हो रहा है कि अब 'किया क्या जाए' का प्रश्न समाप्त सा हो रहा है.

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद --शालिनी जी, सलीम जी, विद्याजी , रविकर व भूषन जी...
--कहीं से तो प्रारम्भ करना पडेगा....

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for your valuable comment.